Call: 0123456789 | Email: info@example.com

Triveni Kala Sangam

हमारे विद्यार्थी

आज की उभरती सिने तारिका सूफ़ी सैय्यद को त्रिवेणी कला संगम , जयपुर की ओर से संगीत, नृत्य एवं नाट्य जगत के समक्ष सर्वप्रथम वर्ष 2007 में आयोजित एक प्रशिक्षण शिविर के माध्यम से रवीन्द्र मंच , जयपुर डॉ कैलाश चन्द्र शर्मा द्वारा लिखित नाटक ‘मन चंगा तो कठौती में गँगा ‘ व ‘कार्यवाहक हलवाई ‘ के माध्यम से प्रस्तुत किया गया था उन दिनों की याद करते हुए सूफ़िया द्वारा अपने गुरु के सम्मान में दो शब्द

  • आज की उभरती सिने तारिका सूफ़ी सैय्यद को त्रिवेणी कला संगम , जयपुर की ओर से संगीत, नृत्य एवं नाट्य जगत के समक्ष सर्वप्रथम वर्ष 2007 में आयोजित एक प्रशिक्षण शिविर के माध्यम से रवीन्द्र मंच , जयपुर डॉ कैलाश चन्द्र शर्मा द्वारा लिखित नाटक ‘मन चंगा तो कठौती में गँगा ‘ व ‘कार्यवाहक हलवाई ‘ के माध्यम से प्रस्तुत किया गया था।